Posted on Leave a comment

खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ाने का सबसे आसान आयुर्वेदिक तरीका

How to increase blood hemoglobin level by Ayurveda?

खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ाने का सबसे आसान आयुर्वेदिक तरीका

नमस्कार मित्रों।

इस भागदौड़ भरी जिंदगी में संतुलित और पोषक आहार बहुत जरूरी है। यह बात हम सभी जानते हैं फिर भी अपना नही पाते। जिसके कारण हमारे शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने लगती है।

आमतौर पर आप सभी ने हीमोग्लोबिन के बारे में सुना होगा। यह रक्त में मौजूद लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाने वाला तत्व है जो कि लौह और प्रोटीन के संयोग से बना होता है। यह ऑक्सीजन को रक्त के माध्यम से शरीर के सभी कोशिकाओं तक पहुंचाने का काम करता है। जिससे कोशिकाएं अपने अपने कार्य सुचारू रूप से कर पाते हैं।

जब हम अनजाने में अपने आहार में आयरन और प्रोटीन की अवहेलना करने लग जाते हैं तो हीमोग्लोबिन की कमी हो सकती है। इसके अलावा मलेरिया, टाइफाइड, कैंसर में रेडियोथेरेपी की वजह से, अन्य जीर्ण/ पुराने रोग, बवासीर में अधिक खून जाना, महिलाओं में माहवारी के समय अधिक रक्तस्राव होना, प्रसव के दौरान अधिक रक्तस्राव होना, चोट लग जाने पर अधिक खून बह जाना आदि भी हीमोग्लोबिन की कमी हो जाने के कारण हो सकते हैं।

खून में हीमोग्लोबिन की कमी को कैसे बढ़ाया जा सकता है?
(How to increase blood hemoglobin level?)

किसी भी रोग के समाधान के लिए सबसे जरूरी है कि कारण का पता लगाया जाए। कारण ज्ञात हो जाने पर समाधान करना आसान हो जाता है। जिस रोग की वजह से हीमोग्लोबिन में कमी आई है उस रोग की चिकित्सा के साथ ही रक्तवर्धक पोषक आहार एवं औषधियों के सेवन से इस कमी को दूर किया जा सकता है।

हीमोग्लोबिन बढ़ाने वाले आहार एवं औषधियां:

रक्त में हीमीग्लोबिन की कमी दूर करने के लिए आयरन रिच फूड्स बहुत जरूरी होते हैं। गहरे हरे रंग की पत्तेदार सब्जियां जिसे हम सामान्य रूप से भाजी या साग भी कहते हैं, जैसे कि पालक, मेथी, बथुआ आदि का प्रयोग अच्छा होता है। फलीदार सब्जियां एवं दालों में भी आयरन एवं प्रोटीन पाया जाता है जिसका सेवन करना हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए अच्छा होता है। विटामिन बी-9 (फोलिक एसिड) युक्त आहार का सेवन भी हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए उचित पाया गया है। विटामिन बी-9 से भरपूर भोज्य पदार्थों में गेंहू, बाजरा, ज्वार आदि अनाज आते हैं। इनकी बनी रोटियों का सेवन फायदेमंद है। इसके अलावा चना, मटर, सूखे फल एवं मेवे जैसे काजू, बादाम, छुहारे, खजूर, किसमिस, अंजीर, दाख आदि में प्रचुर मात्रा में विटामिन्स एवं खनिज पदार्थ पाए जाते हैं जो रक्त में हीमोग्लोबिन एवं लाल रक्त कणों को बढ़ाने में मदद करते हैं।

वैज्ञानिक अनुसंधान में यह पाया गया है कि 8 प्रकार के पोषक तत्वों से युक्त भोजन का सेवन करने से लाल रक्त कोशिकाएं एवं हीमोग्लोबिन में विशेष रूप से बढ़ोत्तरी होती है। ये पोषक तत्व हैं- आयरन (लौह), विटामिन सी, कॉपर (ताँबा), विटामिन ए, विटामिन बी 12, विटामिन बी 9, विटामिन बी 6 एवं विटामिन ई।

आयुर्वेद में भी उपर्युक्त आहार एवं भोज्य पदार्थों को रक्त वर्धक माना गया है। इसके अलावा कुछ औषधीय द्रव्य जैसे पुनर्नवा, गिलोय, हरिद्रा, दारुहरिद्रा, आमलकी, अर्जुन, सारिवा, खदिर, मंजिष्ठा, तालमूली, नागकेशर, लौह भस्म, अभ्रक भस्म, स्वर्णमाक्षिक भस्म, मंडूर भस्म इत्यादि को रक्तवर्धक एवं रक्त प्रसादन कहा गया है। धात्री लौह, नावयस लौह, पुनर्नवादि मंडूर, लोहासव, पुनर्नवासव आदि अनेक आयुर्वेदीय शास्त्रीय योग भी हैं जो हीमोग्लोबिन एवं लालरक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में मददगार साबित हुए हैं। इनका प्रयोग आयुर्वेदिक चिकित्सक के परामर्श अनुसार करना चाहिए।

हमारे संस्थान ने भी उपयुक्त औषधियों के सम्मिश्रण से कुछ रक्तवर्धक एवं खून बढ़ाने वाली औषधि विकसित की है जिसे आप घर बैठे ऑनलाइन आर्डर कर मंगवा सकते हैं।

अगर आप या आपके परिचित में से कोई खून की कमी या हीमोग्लोबिन की कमी से ग्रसित हैं तो वे नीचे दिए लिंक पर जाकर एनीमिया हेल्थ केअर पैक आर्डर कर सकते हैं।

Anaemia Health Care Pack

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Comment moderation is enabled. Your comment may take some time to appear.